पृष्ठ

समर्थक

शनिवार, 7 अप्रैल 2012

एहसास



खुशी हो कर भी खुशी का एहसास नहीं  ।


दर्द ए चुभन हो कर भी चुभन का एहसास नही ।


ऎसा हुआ है क्या ?


कि इस गहराई में डूब कर भी


डूबने का एहसास नही ।

(अंजना )

चित्र गूगल साभार 

11 टिप्‍पणियां:

  1. वाह!!!!!बहुत सुंदर रचना,....अंजना जी...
    आपका समर्थक बन गया हूँ,....आप भी बने मुझे खुशी होगी....
    पोस्ट पर आने के लिए आभार,....

    उत्तर देंहटाएं
  2. मोहब्बत शय ही ऐसी है...........................

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही भावपूर्ण प्रस्तुति । मेरे पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आप सभी का बहुत-बहुत धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत बढि़या! छोटी मग़र भाव भरी रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत बढि़या! छोटी मग़र भाव भरी रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति.
    अहसास के लिए मन चाहिए.
    यदि मन भाव समुन्द्र में गहरी डुबकी लगा ले तो अहसास
    कौन करे.

    ऊँ को देखना,पढ़ना,सुनना,बोलना अच्छा लगता है.
    आभार.

    उत्तर देंहटाएं