पृष्ठ

समर्थक

गुरुवार, 2 दिसंबर 2010

कश्ती


 तूफान आया , जब  शांत  हुआ दरिया

सोचा  चलो  निकाल लो कश्ती

चल पडे राह पर फिर अपने

दिल मे थे अरमान

आँखो मे थी कुछ नमी

पहुँचे जब किनारे के करीब

पाने को थे अभी मंजिल को

आया जोश लहरो को

पहुँचा दिया भँवर में हमें फिर

उठी आँधीफिर जलते अरमानो की

जिसे फिर दिया नाम लोगो ने

अलग अलग फरमानो से ।



सर्वाधिकार सुरक्षित

बुधवार, 28 जुलाई 2010

मेरी कूची व कलम




जख्म से रिसते लहू का गिरना

न देख पाये हम अब ।
मौत की वादी में खुशी का अहसास
न कर पाये हम अब ।
हर चेहरे के पीछे इक नया चेहरा
न सह पाये हम अब ।
समुद्र की तूफानी लहरों में जीने की आशा..
न धोखा दे पाये मन को हम अब ।
झोली में हो कांटे और करुं फूल का अहसास
न ये कर पाये हम अब ।
गम में हर्ष की कल्पना
ऎसा अहसास न कर पाएं हम अब ।


अंजना की कलम से

बुधवार, 21 अप्रैल 2010

सवाल का जवाब

 लडकी अपने मायके मे अपने आप का रिश्ता छोड़ आती है। यानि  वह एक लड़की का रिश्ता छोड एक नया औरत का रिश्ता सुसराल मे निभाती है।जहाँ बहू,पत्नी, का रिश्ता जोड पति को पाती है।

रविवार, 18 अप्रैल 2010

सवाल आप सब के लिए

मुझे से किसी ने प्रश्न किया कि लड़की की जब शादी होती है तो
जो रिश्ते उस के मायके मे छुट जाते है उस के बदले उसे सुसराल
मे वही रिश्ते मिल जाते है।जैसे माँ के रुप मे सास ,पिता के रुप
मे ससुर ,भाई के रुप मे देवर , बहन के रुप मे ननंद ,लेकिन ऎसा
कौन सा रिश्ता छोड़ती है कि उसे पति मिलता है!!! जवाब जो मैने
दिया वो मै आप को बाद में बताऊंगी । पहले मै आप सब से इस

का उत्तर चाहती हूँ ।

मंगलवार, 13 अप्रैल 2010

दुनिया

स्वार्थ का आंचल थामे ये दुनिया

व्यर्थ का ढोग रचाती ये दुनिया

जाने किस ओर जायेगी ये दुनिया

पीडित हो उठा है मन देख ये दुनिया

जीवन का अंत मात्र शून्य ही तो है

फिर भी कपट का दामन न छोडे ये दुनिया

मंगलवार, 6 अप्रैल 2010

मेरी प्यारी गिलहरी




ये गिलहरी जब मेरे घर आई तो उसे
भूखा देख झट से मैने उसे रोटी डाल
दी और भूखी होने के कारण झटपट
रोटी को कुतर कुतर कर खाने लगी
मै भी उसे खाती देखती रही ।सोचा
चलो इन लम्हो को कैद कर ले ,झट
से कैमरा ले कर आ गये । पास जाकर तस्वीर खीची वो तस्वीर आप भी
देखे।कितनी प्यारी लग रही है न ...