पृष्ठ

समर्थक

मंगलवार, 6 अप्रैल 2010

मेरी प्यारी गिलहरी




ये गिलहरी जब मेरे घर आई तो उसे
भूखा देख झट से मैने उसे रोटी डाल
दी और भूखी होने के कारण झटपट
रोटी को कुतर कुतर कर खाने लगी
मै भी उसे खाती देखती रही ।सोचा
चलो इन लम्हो को कैद कर ले ,झट
से कैमरा ले कर आ गये । पास जाकर तस्वीर खीची वो तस्वीर आप भी
देखे।कितनी प्यारी लग रही है न ...

10 टिप्‍पणियां:

  1. वाह...गिलहरी भी सुनदर और फोटोग्राफी भी गज़ब की....

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत प्यारी ...!!

    बिलकुल आपकी तरह .....!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. अपनी तस्वीर के लिये गिलहरी को धन्यवाद दीजिये..!
    बेहतर ..।
    आभार..!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बिलकुल! बहुत प्यारी है. खाते देख हमें भी सुकून मिल रहा है. मैं भी खिलाया था गिलहरी को 'सब याद आ गया'

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर चित्र है ! कैमरा कौन सा है ?

    मेरी कविता पर टिपण्णी के लिए शुक्रिया !

    उत्तर देंहटाएं
  6. सैल जी ये कैमरा canon का है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. लगता है मेरे बरामदे में बैठी वही गिलहरी है जो सुबह दिखी थी...!

    उत्तर देंहटाएं