पृष्ठ

समर्थक

बुधवार, 26 मई 2010

मेरी कूची से


दुनिया है गोल
रंगबिरंगे रंगो की तरह
है सब लोग

36 टिप्‍पणियां:

  1. bahut khoob

    bakai duniya gol hai aur ranbirange hai insan

    http://sanjaykuamr.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  2. सही कहा आपने वाकई दुनिया गोल है तभी तो घूम फिर कर मिल ही जाते है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. मुझे आपका ब्लोग बहुत अच्छा लगा ! आप बहुत ही सुन्दर लिखते है ! मेरे ब्लोग मे आपका स्वागत है !

    उत्तर देंहटाएं
  4. दुनिया बहुत ही अच्छी और सुन्दर है! लाजवाब!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बात तो सही है...
    मगर इतने सारे दिल टूट कर क्यों गिर रहे हैं...?

    उत्तर देंहटाएं
  6. बात तो सही है...
    मगर इतने सारे दिल टूट कर क्यों गिर रहे हैं...?

    उत्तर देंहटाएं
  7. बेचैन आत्मा जी ,वो तो देख रहे थे कि कैसा लुक लग रहा ब्लांक का ,इतने मे आप का आना हो गया ब्लांक पर...

    उत्तर देंहटाएं
  8. ...बहुत सुन्दर .. ब्लाग प्रसंशनीय है !!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. wakayi aapki duniya ke log to rang virange hain.....

    उत्तर देंहटाएं
  10. aur haan mere blog par...
    तुम आओ तो चिराग रौशन हों.......
    regards
    http://i555.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  11. ये थोड़ी से अंडाकार हो गयी ... पर फिर भी सही कहा है इस दुनिया में अलग अलग रंगों के लोग हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. सही है दुनिया है गोल रंगबिरंगी ..औऱ लोग भी कम नहीं. एक ही इंसान अपने अंदर कई तरह के रंग छिपाए बैठा होता है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. छोटी सी पर प्यारी सी बात..अच्छी लगी.
    _____________
    और हाँ, 'पाखी की दुनिया' में साइंस सिटी की सैर करने जरुर आइयेगा !

    उत्तर देंहटाएं
  14. आईये जाने .... प्रतिभाएं ही ईश्वर हैं !

    आचार्य जी

    उत्तर देंहटाएं
  15. आईये जानें .... मैं कौन हूं!

    आचार्य जी

    उत्तर देंहटाएं
  16. @दिगम्बर नासवा जी सही कहा थोडी अंडाकार हो गई ।
    प्रतिक्रिया व्यक्त करने के लिए आप सभी का बहुत बहुत आभार.....

    उत्तर देंहटाएं
  17. ज्यामितीय आकारों से बने इस चित्र का गूढ़ार्थ तो नहीं समझ पाया किन्तु चित्र अच्छा लगा.

    उत्तर देंहटाएं
  18. दुनिया बनाने वाले क्या तेरे दिल में समाई
    तुने काहे को दुनिया बनाई . ......

    उत्तर देंहटाएं
  19. यदि रंग न होते ,तो इस दुनिया में हम उलझे न होते !
    बहुत सुंदर ! बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत सुन्दर है दुनिया आपके चित्र की तरह बस देखने वाले की नज़र चाहिये। आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  21. चित्र और बात दोनों सुन्दर हैं...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  22. वाह! क्या बात है! लाजवाब प्रस्तुती!

    उत्तर देंहटाएं