पृष्ठ

समर्थक

मंगलवार, 15 फ़रवरी 2011

धड़कन



तेरी जुदाई के डर से

काँप जाता है दिल मेरा

तेरे बिन जीने के खयाल से

सहर जाता है बदन मेरा

तेरे दिल की धड़कन से ही

धडकता है दिल मेरा

आज तू है तो है वजूद

तेरे बिन न कोई वजूद मेरा