पृष्ठ

समर्थक

रविवार, 18 अप्रैल 2010

सवाल आप सब के लिए

मुझे से किसी ने प्रश्न किया कि लड़की की जब शादी होती है तो
जो रिश्ते उस के मायके मे छुट जाते है उस के बदले उसे सुसराल
मे वही रिश्ते मिल जाते है।जैसे माँ के रुप मे सास ,पिता के रुप
मे ससुर ,भाई के रुप मे देवर , बहन के रुप मे ननंद ,लेकिन ऎसा
कौन सा रिश्ता छोड़ती है कि उसे पति मिलता है!!! जवाब जो मैने
दिया वो मै आप को बाद में बताऊंगी । पहले मै आप सब से इस

का उत्तर चाहती हूँ ।

42 टिप्‍पणियां:

  1. saali ke roop adhi gharwali...:D
    waise fir wo patni me hi sare rishte dhoondhta hai...
    http://dilkikalam-dileep.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  2. pata nahi anjana ji ...
    lekin uttar jaanne ki utsukta badh gayi hai....
    kripya jaldi jawab dein...

    उत्तर देंहटाएं
  3. शेखर जी जल्द ही जवाब दूंगी ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. मुझे लगता है कि खुद से खुद का जो रिश्ता है, वही रिश्ता उस स्त्री को ससुराल में पति से मिलता है । तभी तो उसे अर्धांगिनी कहा जाता है । यानि कि एक स्त्री का अपने पति से वही रिश्ता होना चाहिए जो उसका खुद से हो, इसे यूँ कह सकते हैं कि दो बदन और एक जान !
    हो सकता है कि मैं ग़लत हूँ पर ये बस मेरा ख्याल है ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. rochak prashn hai.

    Indranil ne sahi kaha...ek ladaki khud se khud ka rishta bhuul jaati hai...

    उत्तर देंहटाएं
  6. मेरे विचार से वह खुद को छोड़ती है और खुदी को प्राप्त करती है। वैसे आपके उत्तर की प्रतिक्षा रहेगी.

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपके ब्लाग की घड़ी खूबसूरत है..उड़ाने का मन कर रहा है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. मेरे पास इस से संबधित उत्तर जो इमेल से आये है बडे ही दिलचस्प हैवह भी आप से बांटना चाहुंगी...
    @@ कविता जी कहती है कि वो अपना बचपन छोड आती है।
    @@ अंजु जी कहती है कि पति बोनस के रुप मे मिलता है।
    @@ पूजा जी कहती है कि शादी से पहले एक भूत मेरे साथ था । शादी होने से पहले उसे पीपल के पेड के पास छोड आई लेकिन पति रुप मे फिर एक भूत मिल गया ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. अगर मुझ से पूछा जाता तो यही कहती वो सारे रिश्ते जो मैं मायके में छोड़ आई हूँ ....चाहे वह भाई का हो ...पिता का हो ....या अज़ीज़ मित्र का .....वह सभी मैं पति में देखना चाहती .......किसी एक रिश्ते के बदले पति नहीं होता ....उसमें वे सारे रिश्ते होने चाहिए जो स्त्री छोड़ आती है .....!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. Prashn jitna aasan hai uttar utna hi mushkil ....uttar ki pratiksha rahegi? waise i think boy friend ki jagah pati milta hai !! m galat bhi ho sakta hu ?

    Jai HO Mangalmay HO

    उत्तर देंहटाएं
  11. छूटे हुवे रिश्ते तो नही मिलते ... रिश्तों के रूप में नये रिश्ते मिलते हैं ... पर पति के रूप में जो रिश्ता मिलता है वो सब छूटे हुवे रिश्तों का अंश होता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. जहाँ तक हम समझते हैं, पति तो उसका अर्धांग ही होता है.
    पति एक पत्नी से अलग कहाँ हुआ !
    कहने का मतलब है कि पति के रूप में वह जीवनसाथी को प्राप्त करती है और जो उसको सम्पूर्ण करता है. जो पत्नी की वर्तमान और भावी जरूरतों (सामाजिक, आर्थिक, शारीरिक और मानसिक आदि.)की पूर्ति करता है.
    वह किसी भी अन्य सम्बन्ध से तुलनीय नहीं है.
    सास माता हो सकती है, ससुर पिता हो सकते हैं पर पति तो अतुलनीय है, उसका ही अंग है.

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपका लेख पढ़कर हम और अन्य ब्लॉगर्स बार-बार तारीफ़ करना चाहेंगे पर ये वर्ड वेरिफिकेशन (Word Verification) बीच में दीवार बन जाता है.
    आप यदि इसे कृपा करके हटा दें, तो हमारे लिए आपकी तारीफ़ करना आसान हो जायेगा.
    इसके लिए आप अपने ब्लॉग के डैशबोर्ड (dashboard) में जाएँ, फ़िर settings, फ़िर comments, फ़िर { Show word verification for comments? } नीचे से तीसरा प्रश्न है ,
    उसमें 'yes' पर tick है, उसे आप 'no' कर दें और नीचे का लाल बटन 'save settings' क्लिक कर दें. बस काम हो गया.
    आप भी न, एकदम्मे स्मार्ट हो.
    और भी खेल-तमाशे सीखें सिर्फ़ "टेक टब" (Tek Tub) पर.
    यदि फ़िर भी कोई समस्या हो तो यह लेख देखें -


    वर्ड वेरिफिकेशन क्या है और कैसे हटायें ?

    उत्तर देंहटाएं
  14. जैसा हीर जी ने कहा "उसमें वे सारे रिश्ते होने चाहिए जो स्त्री छोड़ आती है" - सर्वथा उचित तो तभी होगा फिर भी प्रश्न आपका है तो आपके उत्तर की भी प्रतीक्षा रहेगी.

    उत्तर देंहटाएं
  15. कठिन सवाल है...
    ________________
    'पाखी की दुनिया' में इस बार माउन्ट हैरियट की सैर करना न भूलें !!

    उत्तर देंहटाएं
  16. धन्यवाद राजीव जी मैने आप के कहे अनुसार वर्ड वेरिफिकेशन हटा दिया ।भविष्य मे आप की इसी तरह मदद मिलती रहे ।आप के भविष्य की शुभकामनाओ के साथ आप का पुनः आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  17. सूचना ........लो जी इंतजार की घडी अब खत्म होती है।आप सभी का टिप्पणी करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद ।बैचेन आत्मा जी आप अब बैचेन न होए। अभी इस सवाल का जवाब पेश होने जा रहा है।

    उत्तर देंहटाएं
  18. इस नए चिट्ठे के साथ हिंदी ब्‍लॉग जगत में आपका स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  19. इस नए चिट्ठे के साथ हिंदी ब्‍लॉग जगत में आपका स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  20. इस नए चिट्ठे के साथ हिंदी ब्‍लॉग जगत में आपका स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  21. इस नए चिट्ठे के साथ हिंदी ब्‍लॉग जगत में आपका स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  22. उत्तर सभी को अपने बनाए सांचे में ही चाहिए. इसलिए जो आप सोचे बैठे हैं वही उत्तर आपको सही लगेगा. बाकियों का बताना या तो निरर्थक है या फिर जिज्ञासु भाव रखने वालों को गुरु काफी मिल जाते हैं इस भावना से आपने प्रश्न किया है.

    उत्तर देंहटाएं
  23. पति का रिश्ता वो रिश्ता होता हैं जो दुसरे घर मैं उस रिश्तों को फिर से बांधता हैं ,क्योकि अगर आपके फिर से सारे रिश्ते मिल रहे हैं तो वो सिर्फ और सिर्फ आपके पति की वजह से ही मिलते हैं
    तो पति का रिश्ता ,एक पुल की तरह काम करता हैं ,जो देता हैं रास्ता आपको दो परिवारों का एक सा अनुभव ,पति का रिश्ता गोंद की तरह होता हैं,जो जोड़ता हैं दो परिवारों को एक डोर मैं
    आपका क्या विचार हैं इस बारे मैं ,जरूर बताये
    ब्रज दीप सिंह

    उत्तर देंहटाएं
  24. ब्रजदीप सिंह जी आप का विचार सही है और मैं इस बात से सहमत हूँ । आप का मेरे ब्लांक पर आने का बहुत बहुत धन्यवाद ।आशा करती हूँ कि आप इसी तरह मेरा उत्साह बढाते रहेगे ।आभार

    उत्तर देंहटाएं
  25. कली बेंच देगें चमन बेंच देगें,

    धरा बेंच देगें गगन बेंच देगें,

    कलम के पुजारी अगर सो गये तो

    ये धन के पुजारी वतन बेंच देगें।

    हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में राज-समाज और जन की आवाज "जनोक्ति "आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत करता है . . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . नीचे लिंक दिए गये हैं . http://www.janokti.com/ , साथ हीं जनोक्ति द्वारा संचालित एग्रीगेटर " ब्लॉग समाचार " http://janokti.feedcluster.com/ से भी अपने ब्लॉग को अवश्य जोड़ें .

    उत्तर देंहटाएं
  26. Bahut achaa laga aap ke vichar pad kar....
    ladkee apne aap ka rishta chod aatee hai...to patee ka rishta patee hai...

    उत्तर देंहटाएं
  27. बड़ा आनंद आया आपका प्रश्न पढ़ कर और सभी के उत्तर जानकार.
    क्या बात है !

    उत्तर देंहटाएं